यूकेडी, वामदलों सहित छह संगठनों ने कोरोना काल में IDPL ऋषिकेश को पूनर्जीवित करने को उठाई आवाज, प्रधानमंत्री को पत्र व मुख्यमंत्री से मुलाकात का माँगा समय

TheNewsAdda

देहरादून: शनिवार को छह संगठनों जिनमें उत्तराखंड क्रांति दल, सीपीआई, सीपीएम, सीपीआई (एमएल), उत्तराखंड महिला मंच और उत्तराखंड पीपल्स फ़ोरम ने कोरोना काल में IDPL ऋषिकेश को पुनर्जीवित करने के लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है और इसी मुद्दे पर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से मुलाकात का समय भी माँगा है।

पढ़िए पूरा पत्र हुबहू…

प्रति,

  1. श्रीमान प्रधानमंत्री महोदय,
    भारत सरकार
    नई दिल्ली
  2. श्रीमान मुख्यमंत्री महोदय
    उत्तराखंड शासन
    देहरादून.

विषय : आईडीपीएल ऋषिकेश को पुनर्जीवित करने के संबंध में

महोदय,
देश और उत्तराखंड इस समय कोरोना की दूसरी लहर का तीव्र प्रहार झेल रहे हैं. ऐसे में हमारे सामने यह चुनौती है कि दवाई, ऑक्सीजन और अन्य चिकित्सीय सामग्री कैसे पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो और लोगों तक पहुंचे. इस संदर्भ में यह अवगत कराना है कि ऋषिकेश में इंडियन ड्रग्स एंड फार्मासूटिकल्स लिमिटेड (आईडीपीएल) का कारख़ाना है. यह केंद्र सरकार का उपक्रम है,जिसे बरसों पहले बीमार घोषित कर दिया गया है.
महोदय, 1961 में स्थापित आईडीपीएल की अतीत में जीवन रक्षक दवाओं के क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने और आयात पर निर्भरता कम करने में बेहद जबरदस्त भूमिका रही है. मलेरिया रोधी क्लोरोक्वीन, ओआरएस और परिवार नियोजन की गोली : माल डी आदि का निर्माता आईडीपीएल रहा है. 1994 के प्लेग में टेट्रासाइक्लीन की आपूर्ति के जरिये आईडीपीएल ने इसके रोकथाम में बेहद प्रभावी भूमिका निभाई थी.
ऐसे शानदार अतीत वाले आईडीपीएल का कारख़ाना गुड़गाँव,हैदराबाद आदि के साथ ही ऋषिकेश में भी है. ऋषिकेश का कारख़ाना अब अपने अतीत की छाया बन कर दम तोड़ रहा है.
ऐसे समय में जब देश को जीवन रक्षक दवाओं, ऑक्सीजन और कोरोना के टीके की अत्याधिक आवश्यकता है,केंद्र सरकार को चाहिए कि आईडीपीएल,ऋषिकेश को पुनर्जीवित करके,उसे इन सब के निर्माण कार्य में लगाया जाये. हाल में डीआरडीओ के सहयोग से आईडीपीएल ऋषिकेश में 500 बेड का अस्थायी कोविड केयर सेंटर शुरू किया गया है. यह तात्कालिक उपयोग हो सकता है,लेकिन आईडीपीएल ऋषिकेश का सही उपयोग यही होगा कि उसे दवा,ऑक्सीजन और टीके के निर्माण में तत्काल लगाया जाये. वर्तमान महामारी के समय में तो ऐसा किया जाना नितांत आवश्यक है. मामले की गंभीरता को देखते हुए इस प्रकरण में त्वरित निर्णय लिया जाएगा,ऐसी उम्मीद है.
सधन्यवाद,

दिवाकर भट्ट
केंद्रीय अध्यक्ष
उत्तराखंड क्रांति दल
समर भण्डारी
राज्य सचिव
भाकपा
राजेंद्र सिंह नेगी
राज्य सचिव
माकपा
इन्द्रेश मैखुरी
गढ़वाल सचिव
भाकपा(माले)
निर्मला बिष्ट
सदस्य केन्द्रीय संयोजक मण्डल
उत्तराखंड महिला मंच
जयकृत कंडवाल
संयोजक
उत्तराखंड पीपल्स फोरम

(नोट : मुख्यमंत्री जी को भेजे ज्ञापन में उनसे इस मुद्दे पर चर्चा हेतु समय की मांग की गई है)


TheNewsAdda
error: Content is protected !!