CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में 12वीं के रिज़ल्ट का फ़ॉर्मूला पेश किया: 31 जुलाई तक रिज़ल्ट जारी कर देगा बोर्ड, जो स्टूडेंट रिज़ल्ट से संतु्ष्ट नहीं होंगे उनके लिए एग्ज़ाम का विकल्प खुला रहेगा

TheNewsAdda

दिल्ली: CBSE द्वारा 12 वीं के रिज़ल्ट का फ़ार्मूला तैयार करने को बनाई 13 सदस्यीय कमेटी ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। बोर्ड के रिज़ल्ट को लेकर बनाए ड्राफ़्ट के अनुसार 10वीं, 11वीं और 12वीं के प्री-बोर्ड के रिज़ल्ट को फाइनल रिज़ल्ट का आधार माना जाएगा। सीबीएसई ने कहा है कि 31 जुलाई तक रिज़ल्ट जारी कर दिया जाएगा।


12वीं की मार्कशीट तैयार करने के लिए सीबीएसई ने कहा है कि 10वीं के पांच में से टॉप मार्क यानी सबसे अधिक नंबर वाले सब्जेक्ट ले लिए जाएंगे। इसी फ़ॉर्मूला के तहत 11 वीं के विषयों का औसत निकाल लिया जाएगा और 12वीं के प्री-बोर्ड एग्ज़ाम अथवा प्रैक्टिकल के नंबर लिए जाएँगे।


बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि 10वीं, 11वीं के नंबर को 30-30 फीसदी और 12वीं के नंबर को 40 फीसदी वेटेज दिया जायेगा। साथ ही जो स्टूडेंट एग्ज़ाम देना चाहेंगे उनके लिए सामान्य हालात होने पर परीक्षा के अलग इंतजाम कर दिए जाएंगे। सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई जारी है।

कल हमने ये खबर आप तक पहुँचाई थी।

दिल्ली: कोरोना के कहर के चलते प्रधानमंत्री मोदी की अगुआई में हुई एक जून को हुई उच्च स्तरीय बैठक के बाद बारहवीं बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी गई थी। उसी दौरान कहा गया था कि 12वीं का रिजल्ट तय समयसीमा के भीतर और तार्किक आधार पर तैयार किया जाएगा। बड़ा सवाल यह है कि आखिर स्टूडेंट्स का असेसमेंट किस आधार पर होगा? अब CBSE में 12वीं के रिजल्ट के लिए 10वीं, 11वीं और 12वीं के नंबर्स जोड़े जाने पर विचार चल रहा है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार CBSE का 13 सदस्यीय पैनल 10वीं, 11वीं और 12वीं के नंबर 30:30:40 के अनुपात में जोड़कर रिजल्ट तैयार करने के तरीके पर सहमति जता सकता है।
टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार परिणाम के लिए 10वीं और 11वीं के नंबर को 30-30 फीसदी और 12वीं के बोर्ड परीक्षा से पहले लिए गए टेस्ट को 40 फीसदी वेटेज दिया जा सकता है। इस कमेटी को अपनी रिपोर्ट 17 जून यानी कल रिजल्ट के संबंध में अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को देनी है जिसके बाद इस फॉर्मूले का औपचारिक ऐलान किया जा सकता है।

30:30:40 अनुपाती फॉर्मूले को लेकर तर्क
एक, ये कि बारहवीं की पूरी पढ़ाई इस साल ऑनलाइन हुई जिसके चलते बारहवीं के असेसमेंट के आधार पर ही रिजल्ट तैयार करना पूरी तरह ठीक नहीं होगा। इसलिए 10वीं व 11वीं की परफ़ॉर्मेंस का भाग भी शामिल किया जाना चाहिए। इसलिए 10वीं-11वीं को 30-30 फीसदी और 12वीं को 40 फीसदी वेटेज दिए जाने का फैसला हो सकता है। हालाँकि कुछ स्कूलों व एक्सपर्ट ने 10वीं और 11वीं को ज्यादा वेटेज दिया जाना चाहिए। CBSE 28 जून तक अंक अपलोड कर सकती है।


TheNewsAdda

TNA

जरूर देखें

06 Apr 2022 4.55 pm

TheNewsAddaदिल्ली: सुप्रीम…

29 Jun 2021 4.14 am

TheNewsAdda देहरादून: कोविड…

31 May 2021 7.22 am

TheNewsAddaदिल्ली: वैक्सीन…

error: Content is protected !!