सचिवालय में कोरोना संक्रमण से बचाव को लगे टीकाकरण कैंप, गोल्डन कार्ड सफ़ेद साबित कमियाँ दूर करें वरना 15 को कार्ड सरेंडर: संघ

TheNewsAdda

  • स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने जल्दी ही कैम्प आयोजित कराने और गोल्डन कार्ड की खामियों को अपने स्तर पर देखने का दिया आश्वासन

देहरादून: उत्तराखंड सचिवालय संघ ने मांग की है कि कोरोना संक्रमण के प्रकोप से बचाव व सुरक्षा के लिए सचिवालय में कार्यरत 18-45 वर्ष के अधिकारियों/कर्मचारियों के लिए पुनः 15 दिन का कोविड 19 टीकाकरण कैम्प आयोजित किया जाए। साथ ही इस कैम्प में 45 वर्ष से अधिक आयु के अधिकारियों/कर्मचारियों को 01 माह पूर्व दी गई पहली खुराक के उपरांत अब दूसरी खुराक दी जाए।संघ ने स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी से मिलकर गोल्डन कार्ड की खामियों को अब तक दुरूस्त न किए जाने पर अपना रोष प्रकट किया।

स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी


इसके साथ ही संघ के अध्यक्ष दीपक जोशी ने कहा कि सचिवालय तथा प्रदेश कार्मिकों हेतु सफेद हाथी साबित हो रहे गोल्डन कार्ड की खामियां अब तक दुरूस्त न होने तथा इस सम्बन्ध में अपने सदस्यों के हित मे लिए गये निर्णयानुरूप 15 दिवस की समयावधि समाप्त होने के बाद 15 मई से विरोध दर्ज कराने का अभियान शुरू किया जाएगा। प्रारंभिक स्तर पर सचिवालय के सभी अधिकारियों-कर्मचारियों एवं उनके आश्रितों के गोल्डन कार्ड एकत्र कर मुख्य कार्यकारी अधिकारी,स्वास्थ्य प्राधिकरण के कार्यालय में जमा कर दिए जाएंगे। उसके बाद इस माह से गोल्डन कार्ड के एवज में अब तक की गयी अंशदान की कटौती आगे और काटने नहीं दी जाएगी। संघ ने गोल्डन कार्ड की खामियां दूर होने तक चिकित्सा प्रतिपूर्ति की पूर्व व्यवस्था को अमल में लाए जाने की मांग जोर शोर से उठाई। दीपक जोशी ने कहा कि अगर इस माह पुनः अंशदान की कटौती जबरन की गयी तो सचिवालय संघ मुखर होकर आवाज उठायेगा। जोशी ने कहा कि स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी से मुलाक़ात के दौरान इस बात को स्पष्ट रूप से कह दिया गया है। संघ की ओर से उपाध्यक्ष सुनील लखेडा, कोषाध्यक्ष बची सिंह, अनिल प्रकाश उनियाल, संयुक्त सचिव चन्दन बिष्ट आदि रहे।


TheNewsAdda
error: Content is protected !!