धन दा का बड़ा ऐलान: पहाड़ प्रदेश में डॉक्टर बनने के सपने के आड़े नहीं आएगी अंग्रेजी, नये सत्र से हिन्दी में भी MBBS पढ़ाई

TheNewsAdda

  • हिन्दी पाठ्यक्रम अपनाने वाला मध्यप्रदेश के बाद देश का दूसरा राज्य होगा उत्तराखंड: डॉ धन सिंह रावत
  • चिकित्सा शिक्षा का हिन्दी पाठ्यक्रम तैयार करने को समिति गठित
  • सूबे के चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने किया बड़ा ऐलान

देहरादून: उत्तराखंड प्रदेश के राजकीय मेडिकल काॅलेजों में अगले सत्र से एमबीबीएस की पढ़ाई अंग्रेजी के साथ-साथ हिन्दी मीडियम में भी की जायेगी। इसके लिये चिकित्सा शिक्षा विभाग ने एक चार सदस्यीय विशेषज्ञ समिति का गठन कर दिया गया है। जो मध्य प्रदेश सरकार द्वारा अपने मेडिकल काॅलेजों में लागू हिन्दी मीडियम एमबीबीएस पाठ्यक्रम का अध्ययन कर नये पाठ्यक्रम का ड्राफ्ट तैयार करेगी। इसका विस्तृत अध्ययन करने के बाद सभी औपचारिकताएं पूर्ण करते हुए अगले सत्र से सूबे के राजकीय मेडिकल काॅलेजों में हिन्दी एमबीबीएस पाठ्यक्रम लागू कर दिया जायेगा।

सूबे के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री डाॅ0 धन सिंह रावत ने बताया कि वर्तमान में केन्द्र सरकार द्वारा राष्ट्रभाषा हिन्दी को विशेष महत्व दिया जा रहा है। इसके तहत न्यायपालिका सहित केन्द्र व राज्य सरकारों के सभी विभागों का कामकाज हिन्दी भाषा में किये जाने पर जोर दिया जा रहा है। यही नहीं शिक्षा के विभिन्न क्षेत्रों में भी अंग्रेजी के साथ-साथ हिन्दी भाषा में भी पाठ्यक्रम लागू किये जा रहे हैं।

धन दा ने कहा कि उत्तराखंड के अधिकतर विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की पढ़ाई हिन्दी मीडियम से ही कराई जाती है। अक्सर देखने में आया है कि पर्वतीय क्षेत्रों से अपनी स्कूली शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्र-छात्राओं को अंग्रेजी माध्यम से की जाने वाली मेडिकल की पढ़ाई में दिक्कत होती है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि स्वयं डाॅक्टरी की पढ़ाई कर रहे छात्र-छात्राएं समय-समय पर मेडिकल शिक्षा के पाठ्यक्रम को हिन्दी मीडियम में भी उपलब्ध कराने की मांग सरकार से करते आये हैं।

उन्होंने कहा कि इन सभी बातों का संज्ञान लेते हुए चिकित्सा शिक्षा विभाग ने नये सत्र से एमबीबीएस की पढ़ाई अंग्रेजी के साथ-साथ हिन्दी माध्यम से भी कराने का निर्णय लिया है। डाॅ0 रावत ने बताया कि मध्य प्रदेश सरकार पहले ही अपने मेडिकल काॅलेजों में एमबीबीएस की पढ़ाई हिन्दी माध्यम में शुरू कर चुकी है। इसी के साथ मध्यप्रदेश हिन्दी मीडियम में एमबीबीएस की पढ़ाई कराने वाला देश का पहला राज्य बन चुका है।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने बताया कि मध्यप्रदेश के बाद उत्तराखंड देश का दूसरा राज्य होगा जहां मेडिकल काॅलेजों में एमबीबीएस की पढ़ाई अंग्रेजी के साथ-साथ हिन्दी माध्यम में भी कराई जायेगी। इसके लिये चिकित्सा शिक्षा विभाग के अंतर्गत राजकीय मेडिकल काॅलेजों के विशेषज्ञ चिकित्सकों की एक चार सदस्यीय कमेटी का गठन कर दिया गया है। राजकीय मेडिकल काॅलेज श्रीनगर के प्राचार्य डाॅ0 सी0एम0एस0 रावत की अध्यक्षता में गठित समिति में हल्द्वानी मेडिकल काॅलेज के प्रोफेसर डाॅ0 ए0के0 सिंह एवं डाॅ0 हरि शंकर पाण्डेय को सदस्य बनाया गया है। जबकि दून मेडिकल काॅलेज देहरादून के प्रोफेसर डाॅ0 दौलत सिंह को सदस्य सचिव नामित किया गया है।

एक्सपर्ट समिति मध्यप्रदेश के मेडिकल काॅलेजों में लागू एमबीबीएस के हिन्दी पाठ्यक्रम का अध्ययन कर राज्य के मेडिकल काॅलेजों के लिये सिलेबस तैयार करेगी। समिति द्वारा तैयार हिन्दी मीडियम पाठ्यक्रम को हेमवती नंदन बहुगुणा चिकित्सा शिक्षा विश्वविद्यालय को सौंप दिया जायेगा। विश्वविद्यालय द्वारा हिन्दी मीडियम पाठ्यक्रम की सभी औपचारिकताएं पूर्ण करने के उपरांत इसे सूबे के मेडिकल काॅलेजों में अगले सत्र से लागू कर दिया जायेगा।


TheNewsAdda

TNA

जरूर देखें

26 Jan 2022 2.38 pm

TheNewsAddaदेहरादून: भाजपा…

24 Dec 2022 4.50 pm

TheNewsAddaDehradun News: मुख्यमंत्री…

08 Jul 2022 1.44 pm

TheNewsAddaKanwar Yatra Preparations: मुख्यमंत्री…

error: Content is protected !!