विंडलास के ठिकानों पर CBI छापा: केंद्रीय जांच एजेंसी ने खंगाला घर, कागजात की तलाशी जारी, सुधीर विंडलास घर में मौजूद, कहा- दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा, पुलिस से कराया जा रहा था हैरेसमेंट

TheNewsAdda

CBI raids builder Sudhir Windlas residence & properties: उत्तराखंड के बड़े बिल्डर सुधीर विंडलास के ठिकानों पर सीबीआई ने छापेमारी की है। बुधवार सुबह से सीबीआई विंडलास रिवर वैली जैसी हाउसिंग सोसाइटीज बना रहे सुधीर विंडलास के ठिकानों पर ये छापेमारी कर रही है। बताया जा रहा है कि सीबीआई की चार टीमें विंडलास कर घर और कारोबारी ठिकानों पर सर्च अभियान छेड़े हुए हैं।

हालांकि अभी केंद्रीय जांच एजेंसी की तरफ से किसी तरह का आधिकारिक प्रेस बयान सामने नहीं आया है लेकिन बताया जा रहा है कि सीबीआई के हाथ कुछ अहम तथ्य लगे हैं। ज्ञात हो कि बीजेपी और आरएसएस में अपने बड़े रसूख का दम भरने वाले सुधीर विंडलास की एक ताकतवर राज्यपाल से गहरी दोस्ती बताई जाती है।

ये अलग बात है कि वे ताकतवर राज्यपाल अभी तक सुधीर विंडलास को धामी राज में कोई राहत दिला पाने में नाकाम रहे हैं। विंडलास पर देहरादून पुलिस द्वारा करीब आधा दर्जन मुकदमे दर्ज किए गए थे। सुधीर विंडलास पर इन मुकदमों में आरोप लगे हैं कि उन्होंने दस्तावेजों में फेरबदल,धांधली और धोखाधड़ी कर करोड़ों की सरकारी और निजी जमीनों पर कब्जा कर लिया है। राजपुर थाने में विंडलास के खिलाफ धारा 420,466,467,468,471 और 120 बी IPC के तहत मुकदमे दर्ज हैं।

पिछले दिनों धामी सरकार ने सुधीर विंडलास से जुड़े मुकदमे सीबीआई को ट्रांसफर करने की सिफारिश कर दी थी जिसके बाद अब केंद्रीय एजेंसी का एक्शन शुरू हो गया है।

हालांकि जब सीबीआई टीम सुधीर विंडलास के घर और ठिकानों पर छापेमारी कर रही उसी दौरान आपके The News ADDA से फोन पर बातचीत में विंडलास ग्रुप के मालिक सुधीर विंडलास ने कहा कि सीबीआई की टीम घर की तलाशी ले चुकी है और कागजात की जांच के बाद जब उनसे कुछ पूछताछ करेगी तो वे हाजिर हैं।

सुधीर विंडलास ने दावा किया कि झूठे मुकदमे लगाकर उनको और उनके परिवार को न केवल परेशान किया जा रहा बल्कि उनके नाम और कारोबार की बदनामी की साजिश रची जा रही है। The News ADDA पर सुधीर विंडलास ने दावा किया कि रोज रोज के हैरेसमेंट से वह तंग आ गया था, लिहाजा अब जांच सीबीआई के हाथ में है तो जल्दी ही दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।

नामी बिल्डर विंडलास ने आरोप लगाया कि अगर उनके खिलाफ धोखाधड़ी जैसे संगीन मामलों में सत्यता थी तो फिर धामी सरकार ने एक के बाद एक चार आईओ क्यों बदले और उनमें से एक भी चार्जशीट क्यों दाखिल नहीं कर पा रहा था?

ज्ञात हो कि सुधीर विंडलास जहां एक तरफ प्रधानमंत्री कार्यालय तक शिकायतों का पुलिंदा लेकर पहुंचे थे तो वहीं दूसरी तरफ एक केंद्रीय राज्य मंत्री के करीबी बीजेपी नेता के साथ 25 लाख रुपए के लेन देन को लेकर झगड़े का उनका व्हाट्सएप चैट जमकर वायरल हुआ था जिसकी चर्चा बीजेपी पॉवर कॉरिडोर्स से लेकर दिल्ली तक हुई थी।

जाहिर है नामी बिल्डर सुधीर विंडलास पर गंभीर आरोप लगे हैं और अब जब सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है तो जल्द सच भी सामने आ जाएगा।


TheNewsAdda
error: Content is protected !!